ज्योतिषशास्त्र में शुभ योग है तो अशुभ योग भी है.शुभ योग अपने गुण के अनुसार शुभ फल(positive result) देते हैं तो अशुभ योग अशुभ फल (negative result)प्रदान करते हैं.अशुभ योगों में एक योग है विषयोग (Vishayoga) .यह किस प्रकार बनता है एवं इसका क्या प्रभाव ह...


36 comments Read More

गुरू को सत्वगुणी ग्रह माना जाता है. यह ज्ञान व भाग्य का प्राकृति स्वामी ग्रह माना जाता है. ज्योतिषशास्त्र में इसे धन का कारक भी कहा गया है. आजीविका का सम्बन्ध धन व आय से होता है. इस लिहाज से गुरू का सम्बन्ध आजीविका स्थान यानी दसवें घर से होने पर शुभ ...


9 comments Read More

व्यवसाय का सम्बन्ध जीविका से है. जीविका के लिए व्यक्ति व्यापार करता है या नौकरी. इसका स्तर छोटा भी हो सकता है और बड़ा भी. इसमें पदोन्नति भी होती है और स्थानांतरण भी. प्रश्न कुण्डली रोजगार और व्यवसाय से सम्बन्धित सभी पहलूओं का उत्तर देने में सक्षम है....


31 comments Read More

मंगल केतु में समनता एवं विभेद (Similarities and di... »

मंगल को नवग्रहों में तीसरा स्थान प्राप्त है और केतु को नवम स्थान फिर भी ज्योतिष की पुस्तकों में कई स्थान पर लिखा मिलता है कि मंगल ...

Read More »

कुम्भ राशि में गुरू के गोचर का वृष राशि पर प्रभाव ... »

वृष राशि का स्थान राशिचक्र में दूसरा है, जबकि कुम्भ राशि से इसका स्थान दसवां है. 20 दिसम्बर को गुरू राशि परिवर्तन करके कुम्भ राशि ...

Read More »

कुम्भ राशि में गुरू के गोचर का मेष राशि पर प्रभाव ... »

गुरू को नवग्रहों में शुभ ग्रह के रूप में जाना जाता है. यह धर्म और अध्यात्म का प्रतिनिधित्व करता है. विवाह, संतान की प्राप्ति, शिक्...

Read More »

ज्योतिष के अनुसार अशुभ जन्म समय (Inauspicious birt... »

हम जैसा कर्म करते हैं उसी के अनुरूप हमें ईश्वर सुख दु:ख देता है। सुख दु:ख का निर्घारण ईश्वर कुण्डली में ग्रहों स्थिति के आधार पर क...

Read More »

कुण्डली में ग्रहण योग प्रभाव और उपचार (Grahan Yog ... »

हमारा जीवन चक्र ग्रहों की गति और चाल पर निर्भर करता है. ज्योतिष शास्त्र इन्हीं ग्रहों के माध्य से जीवन की स्थितियों का आंकलन करता ...

Read More »

राशि का मित्रता पर प्रभाव (Moonsign and friendship... »

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जिस लग्न में व्यक्ति का जन्म होता है.उससे विभिन्न राशियों के अनुसार साझेदारी का फल मिलता है.अगर आप किसी स...

Read More »
क्या आप मांगलिक हैं?
  • मांगलिक दोष गृहस्थिति अनुसार गंभीर या मामूली प्रभाव डालते हैं. इस मांगलिक दोष एवं उपचार रिपोर्ट से आप जान सकते हैं की मंगल आप पर कैसा प्रभाव डालेगा?
  • मांगलिक दोष के प्रभाव को कम करने के लिए आपके ग्रहानुसार क्या क्या उपचार हो सकते हैं? यह रिपोर्ट में आपके लिए उपचार भी सुझाये गए हैं.

Get Manglik Report Online

आपकी कुण्डली में धन योग (Laxmi Yoga Or Dhan Yoga In Your Horoscope)


देवी लक्ष्मी की कृपा हम सभी प्राप्त करना चाहते हैं क्योंकि देवी लक्ष्मी ही सुख वैभव को देने वाली है.ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि में धन वैभव और सुख के लिए कुण्डली में मौजूद धनदायक योग (Lakshmi Yoga) काफी ...


30 Nov 2009 Read More »

Lal Kitab Remedies for Sleeping House – लाल किताब ... »

लाल किताब के अनुसार जिस घर में कोई ग्रह न हो तथा जिस घर पर किसी ग्रह की नज़र नहीं पड़ती हो उसे सोया हुआ घर माना जाता है. लाल किताब... Read More ...

16 Feb 2013 5 comments

रत्नों का चुनाव कीजिए लाल किताब के अनुसार ( Select... »

रत्नों में ग्रहों की उर्जा को अवशोषित करने की अद्भुत क्षमता होती है। रत्नों में विराजमान अलौकि गुणों के कारण रत्नों को ग्रहों का अ... Read More ...

28 May 2010 7 comments

लाल किताब और गृहस्थ सुख (Lal kitab and the Married... »

गृहस्थ जीवन के सुख के विषय में लाल किताब की अपनी मान्यताएं हैं. ज्योतिष की इस विधा में वैवाहिक जीवन के सुख के विषय में कई योगों का... Read More ...

13 Jan 2010 32 comments

Bhadrapada Sankranti – भाद्रपद संक्रान्ति ... »

17 अगस्त 2018, मंगलवार, प्रात: 05:43, सूर्य मघा नक्षत्र, सिंह राशि में प्रवेश करेगा. इस संक्रान्ति में किये जाने वाले कार्यो का शुभ समय दोपहर 11:58 तक रहेगा. भाद्रपद संक्रान्ति को ध्वांक्षी संक्रान्ति के नाम से भी जाना जाता है. भाद्रपद संक्...

25 Aug 2010 Read More »

चौघडिया – Chogadhia The instant Muhurta »

चौघडिया मूहुर्त क्या है (What is chaughadia Muhurat) तेजी से भागते, बदलते समय ने ज्योतिष के मूहुर्त को भी बदल के रख दिया है. आज झटपट मूहुर्त का चलन है. मूहुर्तों की इसी श्रेणी में चौघडिया मूहुर्त (Chaughadia muhurtas) का नाम आता है. इस मूह...

04 Dec 2009 Read More »

मुहूर्त में लग्न और कार्य (Lagna According... »

मुहूर्त (muhurat) वैदिक ज्योतिष (Vedic astrology) का महत्वपूर्ण अंग है। यह समय विशेष में कार्य की शुभता और अशुभता की जानकारी देता है। अगर आप अपने कार्य को सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो मुहूर्त में लग्न का विचार करके कार्य शुरू करें। तुला ...

28 Nov 2009 Read More »

प्रश्न कुण्डली से पूछिये प्रेम में ... »

प्यार की मंजिल प्रेमी को पाना होता है. हर प्रेमी की चाहत होती है कि वह जिससे प्यार करता है वही उसका जीवनसाथी बने. लेकिन बहुत कम लोग होते हैं जिनका प्यार सफल हो पाता है. जिन लोगों के मन में यह भावना उठ...

Read More »

मांगलिक दोष (Manglik Dosha – Kuja D... »

मांगलिक दोष (Manglik Dosha) जिसे कुजा दोष (Kuja Dosha) भी कहते हैं विवाह के विषय में बहुत ही गंभीर और अमंगलकारी मानी जाती है. मांगलिक दोष से पीड़ित लड़का हो या लड़की दोनों की शादी को लेकर माता पिता की...

Read More »

विवाह लग्न और वैवाहिक जीवन (Marriag... »

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार कुण्डली में मौजूद ग्रह वैवाहिक जीवन को सुखद और कलहपूर्ण बनाते हैं.लेकिन यह तथ्य भी प्रमाणिक है कि अगर वैवाहिक लग्न (marriage ascendant) का विचार सही से किया जाए तो विवाहोपरान्...

Read More »

मांगलिक दोष में विवाह (Marriage and... »

कुण्डली में जब प्रथम, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम अथवा द्वादश भाव में मंगल होता है तब मंगलिक दोष (manglik dosha) लगता है.इस दोष को विवाह के लिए अशुभ माना जाता है.यह दोष जिनकी कुण्डली में हो उन्हें मंगली जीवन...

Read More »

जैमिनी ज्योतिष से विवाह का विचार De... »

जैमिनी ज्योतिष (Jaimini Jyotish) में विवाह के विचार के लिए उपपद को एक महत्वपूर्ण कारक के रुप में देखा जाता है. उपपद और दाराकारक (Uppad and Dara Karak) से दूसरे एवं सातवें घर एवं उनके स्वामियों का भी व...

Read More »