मांगलिक दोष में विवाह (Marriage and Manglik Dosha)

manglik-dosh

कुण्डली में जब प्रथम, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम अथवा द्वादश भाव में मंगल होता है तब मंगलिक दोष (manglik dosha) लगता है.इस दोष को विवाह के लिए अशुभ माना जाता है.यह दोष जिनकी कुण्डली में हो उन्हें मंगली जीवनसाथी ही तलाश करनी चाहिए ऐसी मान्यता है.ज्योतिशास्त्र में कुछ नियम (astrological principles) बताए गये हैं जिससे वैवाहिक जीवन में मांगलिक दोष नहीं लगता है, आइये इसे देखें.

ज्योतिष विधा के अनुसार अगर कुण्डली में चतुर्थ और सप्तम भाव में मंगल मेष अथवा कर्क राशि के साथ योग बनाता है तो मंगली दोष लगता है (combination of Mars, Aries or Cancer and 4th or 7th house forms Manglik Dosha). इसी प्रकार द्वादश भाव में मंगल अगर मिथुन, कन्या, तुला या वृष राशि के साथ होता है तब भी यह दोष पीड़ित नहीं करता है. मंगल दोष उस स्थिति में प्रभावहीन होता है जबकि मंगल वक्री( retrograde Mars) हो या फिर नीच या अस्त(debilitated Mars).सप्तम भाव में अथवा लग्न स्थान (ascendant)में गुरू या फिर शुक्र स्वराशि (own sign)या उच्च राशि (exalted sign)में होता है तब मांगलिक दोष वैवाहिक जीवन में बाधक नहीं बनता है.

ज्योतिषशास्त्र के नियम के अनुसार अगर सप्तम भाव में स्थित मंगल पर बृहस्पति की दृष्टि(aspect of Jupiter on Mars) हो तो कुण्डली मांगलिक दोष से पीड़ित नहीं होती है .मंगल गुरू की राशि धनु अथवा मीन में हो (Mars in Jupiter’s sign, i.e. Sagittarius or Pisces) या राहु के साथ मंगल की युति (combination of Rahu and Mars) हो तो व्यक्ति चाहे तो अपनी पसंद के अनुसार किसी से भी विवाह कर सकता है क्योंकि वह मांगलिक दोष से मुक्त होता है.अगर जीवनसाथी में से एक की कुण्डली में मंगल दोष हो और दूसरे की कुण्डली में उसी भाव में पाप ग्रह(malefic planet) राहु या शनि स्थित हों तो मंगल दोष कट जाता है.इसी प्रकार का फल उस स्थिति में भी मिलता है जबकि जीवनसाथी में से एक की कुण्डली के तीसरे, छठे या ग्यारहवें भाव (3rd, 6th and 11th house) में पाप ग्रह राहु, मंगल या शनि मौजूद हों.

अगर कुण्डली के प्रथम, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम एवं द्वादश भाव (1st, 4th, 7th, 8th and 12th house) में से किसी में मंगल मौजूद है और साथ में बृहस्पति या चन्द्रमा है तो मांगलिक दोष को लेकर परेशान नही होना चाहिए.चन्द्रमा अगर केन्द्र स्थान (center house)में है तब भी व्यक्ति को मांगलिक दोष से मुक्त समझना चाहिए.

मांगलिक दोष उपचार: (Remedies for Manglik Dosha)

अगर वर वधू की कुण्डली में इस प्रकार की ग्रह स्थिति नहीं है और मंगली दोष के कारण उससे शादी नहीं कर पा रहे हैं जिसे आप जीवनसाथी बनाने की इच्छा रखते हैं तब मंगलिक दोष के प्रभाव को कम करने के लिए कुछ उपचार कर सकते हैं.ज्योतिषशास्त्र में उपचार हेतु बताया गया है कि यदि वर मंगली (mangli)है और कन्या मंगली नहीं तो विवाह के समय वर जब वधू के साथ फेरे ले रहा हो तब पहले तुलसी के साथ फेरे ले ले इससे मंगल दोष तुलसी पर चला जाता है और वैवाहिक जीवन में मंगल बाधक नहीं बनता है.इसी प्रकार अगर कन्या मंगली है और वर मंगली नहीं है तो फेरे से पूर्व भगवान विष्णु के साथ अथवा केले के पेड़ के साथ कन्या के फेरे लगवा देने चाहिए.

जिनकी कुण्डली में मांगलिक दोष है वे अगर 28 वर्ष के पश्चात विवाह करते हैं तब मंगल वैवाहिक जीवन में अपना दुष्प्रभाव नहीं डालता है.मंगली व्यक्ति इन उपायों पर गौर करें तो मांगलिक दोष को लेकर मन में बैठा भय दूर हो सकता है और वैवाहिक जीवन में मंगल का भय भी नहीं रहता है.

Tags:

Categories:

Leave a reply

Most Recent

  • Roshni bheda: BOD 02/01/2000 time:04:44 am place : keshod Gujarat name : Roshni bheda love merriege in 03/01/2018 sanjay Gujarati BOD 27/09/1987 place : junagadh time malum nahi love merriege safal hogi ya tut jayegi ( Dilip bheda : ye detail meri beti ka he me janna chahta hu kyoki muje pasand nahi he ladka charitrahin he . beti fash gayi he love me.)
  • Mkbadiger: Good information
  • sachin: nice
  • Astrolok: Nice article. Thanks for sharing..... "Astrolok" is starting a new batch of "Astro Mani- 6 Months vedic astrology course" from 16th Nov. 2018. For more details visit - https://astrolok.in/ Email - astrolok.vedic@gmail.com Contact at - +91 9174822333
  • swati: nice post