शनि का गोचर (Saturn’s transit)

shani-dev

नवग्रहों में शनि को सर्वाधिक शक्तिशाली ग्रह के रूप में जाना जाता है.शनि भाग्य का निर्माता है तो भाग्य को अभाग्य में बदलने की क्षमता भी रखता है.शनि को ज्योतिषशास्त्र में अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है.आइये देखें कि शनि देव गोचर (Transit of Shani) में किस प्रकार से फल प्रदान करते हैं.

ज्योतिष विधा के अनुसार शनिदेव जब गोचर में चन्द्र राशि से द्वादश भाव में आते हैं एवं द्वितीय भाव की राशि में रहते हैं तो साढ़े साती की अवधि कहलाती है (Shani’s sade sati starts when Saturn enters the 12th sign from the Moonsign). साढ़े साती की भांति ढैय्या भी काफी महत्वपूर्ण होती है.ढैय्या की अवधि वह होती है जब चन्द्र राशि से शनि चतुर्थ एवं अष्टम में होता है.गोचर मे शनि जब साढ़े साती अथवा ढैय्या के रूप में किसी व्यक्ति के जीवन में प्रवेश करता है तो लोग भयानक अनिष्ट की शंका से भयभीत हो उठते हैं.जबकि इस संदर्भ में ज्योतिषशास्त्र की कुछ अलग ही मान्यताएं हैं.

शनि का गोचर आप आनलाइन
http://astrobix.com/ पर भी देख सकते हैं

ज्योतिषशास्त्र के नियमानुसार जिस व्यक्ति की जन्मकुण्डली में शनि कारक ग्रह होता है उन्हें साढ़े साती और ढैय्या के समय शनि किसी प्रकार नुकसान नहीं पहुंचाते (If Saturn is a significator planet, then it will not harm the native even during the Sade-sati) बल्कि इस समय शनिदेव की कृपा से इन्हें सुख, समृद्धि, मान-सम्मान एवं सफलताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है.जिनकी कुण्डली में शनि मित्र ग्रह शुक्र की राशि वृषभ अथवा तुला में वास करते हैं उन्हें अनिष्ट फल नहीं देते हैं.बुध की राशि मिथुन एवं कन्या में होने पर भी शनि व्यक्ति को पीड़ित नहीं करते हैं.

गुरू बृहस्पति की राशि धनु एवं मीन व स्वराशि मकर एवं कुम्भ में विराजमान होने पर शनिदेव अनिष्ट फल नहीं देते हैं.सूर्य एवं चन्द्र की राशि सिंह एवं कर्क में होने पर शनिदेव मिला जुला फल देते हैं.इस राशि में जिनके शनिदेव होते हैं उन्हें शनि की साढ़े साती एवं ढैय्या में सुख एवं दु:ख दोनों ही बारी बारी से मिलते हैं.शनि अपने शत्रु ग्रह मंगल की राशि मेष और वृश्चिक में होने पर उग्र होता है.इस राशि में शनि की साढ़े साती होने पर व्यक्ति को शनि की पीड़ा का सामना करना होता है.इनके लिए शनि कष्टमय स्थिति पैदा करते है.

जन्म राशि और शनि का गोचर (Moonsign and Saturn’s transit)ज्योतिष विधा के अनुसार जन्म राशि वृषभ, मकर अथवा कुम्भ होने पर शनि का गोचर बहुत अधिक शुभफलदायी नहीं होता है.जिनका जन्म लग्न वृषभ, तुला, मकर या कुम्भ है उनके लिए शनि का गोचर अत्यंत लाभप्रद होता है.इसी प्रकार शनि जिस राशि में गोचर कर रहा है और कुण्डली में उसी राशि में गुरू है तो शनिदेव शुभ फल प्रदान करते हैं.शनिदेव जिस राशि में विचरण कर रहें हैं जन्मपत्री में उस राशि में राहु स्थित है तो शनि अपना फल तीव्र गति से प्रदान करते हैं.गोचर में शनिदेव उस समय भी शुभ फल प्रदान करते हैं जब कुण्डली में जिस राशि में शनि होते है उस राशि से शनि गोचर कर रहे होते हैं.<

Tags:

Categories:

Leave a reply

Most Recent

  • Ram Nigah Singh: 12 ve bhav ka rahu janam chart Me ho to saloni gomed pahne athva nai
  • Ram Nigah Singh: 12 ve bhav ka rahu janam chart Me ho to saloni gomed pahne athva nai
  • Shrikant: Vartman bhavisy aur mrityu ka anumanit thithi 18/06/1965. 0695 hrs
  • Roshni bheda: BOD 02/01/2000 time:04:44 am place : keshod Gujarat name : Roshni bheda love merriege in 03/01/2018 sanjay Gujarati BOD 27/09/1987 place : junagadh time malum nahi love merriege safal hogi ya tut jayegi ( Dilip bheda : ye detail meri beti ka he me janna chahta hu kyoki muje pasand nahi he ladka charitrahin he . beti fash gayi he love me.)
  • Mkbadiger: Good information