रोजगार और दशमेश का प्रभाव (Occupation or Dushmesh)



सप्तम भाव में दशमेश (Dushmesh in Seventh House)
दशम भाव का स्वामी सप्तम भाव में स्थित है इस स्थिति में आप व्यापार या कारोबार करते हैं तो उसमें साझेदारी आपके लिए लाभप्रद रहेगी.आपको अपने कारोबार एवं व्यवसाय में जीवनसाथी का सहयोग प्राप्त होगा.आप कृषि से सम्बन्धी कारोबार को अपना सकते हैं.

अष्टम भाव में दशमेश (Dushmesh in Eighth house)
आपकी कुण्डली के अष्टम भाव में अगर कार्य भाव स्वामी स्थित है तो आप स्थायी तौर पर कार्य करने में आपको परेशानी आ सकती है.मार्केटिंग के काम में आपको अच्छी सफलता मिलेगी.आप व्यापार करते हैं तो इसमें समय समय पर आप बदलाव कर सकते हैं.अगर दशमेश बृहस्पति है और अष्टम में स्थित हैं तो गुप्त विद्याओं में, ज्योतिषशास्त्र एवं धार्मिक विषयों से सम्बन्धित क्षेत्र में आपको सफलता मिलने की संभावना प्रबल रहेगी.

नवम भाव में दशमेश (Dushmesh in Ninth house)
दशमेश नवम भाव में आपको भाग्यशाली बनाता है.इस भाव में स्थित दशमेश राजयोग के समान लाभ प्रदान करता है.आप नौकरी करें अथवा व्यापार दोनों ही स्थिति आपके लिए लाभप्रद रहती है.आपको कार्य में सफलता और सराहना मिलती है.दशमेश नीच स्थिति में होने पर नौकरी एवं व्यापार में स्थायित्व की कमी रहती है.दशमेश नवम भाव में होने पर भी अगर नवमांश कुण्डली यह षष्टम, अष्टम अथवा द्वादश में रहता है तो रोजगार में परेशानी आती है.

दशम भाव में दशमेश (Dushmesh in Tenth house)
आपकी कुण्डली में दशम भाव का स्वामी अपने घर में स्थित है.स्वगृह में स्थित दशमेश आपको उत्तम फल देता है.इस स्थिति में आप सरकारी क्षेत्र में उच्च पद पर आसीन हो सकते है.आप राजनीति में भी कामयाब रहेंगे.आप नौकरी करेंगे तो आपको सनहरे अवसर प्राप्त होंगे.व्यापार में भी आप तेजी से प्रगति करेंगे.इस शुभ स्थित में अशुभता तब आती है जबकि नवमांश कुण्डली में षष्ठम, अष्टम अथवा द्वादश मे दशमेश रहता है.

एकादश भाव में दशमेश (Dushmesh in Eleventh house)
जन्मपत्री के एकदश भाव में दशम भाव का स्वामी स्थित है.इस स्थिति में आप किसी उद्योग अथवा संस्था के प्रमुख होंगे.आप अगर नौकरी करेंगे तो उच्च पद पर होंगे.दशमेश के इस स्थिति में होने से आप अपने कार्य से काफी धन कमाएंगे.आप सुख एवं एश्वर्य का भोग करेंगें.

द्वादश भाव में दशमेश (Dushmesh in Twelveth house)
द्वादश भाव में दशमेश की उपस्थिति होने से रोजगार एवं व्यवसाय में उतारा चढ़ाव एवं संघर्ष बना रहता है.इस भाव में उपस्थित दशमेश रोजगार हेतु जन्म स्थान से दूर ले जाता है.कुण्डली में द्वादश भाव व्ययभाव होने के कारण इन्हें अपनी मेहनत का सही लाभ नहीं मिल पाता है.

Leave a reply