|

पितृ दोष और उपचार (Pitra Dosha and its Remedies)

pitra-doshaमृत्यु के पश्चात संतान अपने पिता का श्राद्ध नहीं करते हैं एवं उनका जीवित अवस्था में अनादर करते हैं तो पुनर्जन्म में उनकी कुण्डली में पितृदोष ( Pitra dosha) लगता है. सर्प हत्या या किसी निरपराध की हत्या से भी यह दोष लगता है.पितृ दोष को अशुभ प्रभाव देने वाला माना जाता है. इस दोष की स्थिति एवं उपचार क्या है आइये देखते हैं.

कुण्डली में पितृ दोष: (Pitra Dosha in the Kundali)
सूर्य को पिता माना जाता है. राहु छाया ग्रह है (Rahu is a shadow planet). जब यह सूर्य के साथ युति (combination of Rahu and Sun) करता है तो सूर्य को ग्रहण लगता है इसी प्रकार जब कुण्डली में सूर्य चन्द्र और राहु मिलकर किसी भाव में युति बनाते हैं ( conjunction of Rahu, Sun and Moon) तब पितृ दोष लगता है. पितृ दोष होने पर संतान के सम्बन्ध में व्यक्ति को कष्ट भोगना पड़ता है. इस दोष में विवाह में बाधा, नौकरी एवं व्यापार में बाधा एवं महत्वपूर्ण कार्यों में बार बार असफलता मिलती है.

कुण्डली में पितृ दोष के कई लक्षण बताए जाते हैं जैसे चन्द्र लग्नेश (Moon’s lord of the ascendant) और सूर्य लग्नेश (Sun’s lord of the ascendant) जब नीच राशि (Debilitated sign) में हों और लग्न में या लग्नेश के साथ युति (combination) या दृष्टि (aspect) सम्बन्ध बनाते हों और उन पर पापी ग्रहों (malefic planet) का प्रभाव होता है तब पितृ दोष लगता है. लग्न व लग्नेश कमज़ोर (combusted ascendant or lord of the ascendant) हो और नीच लग्नेश के साथ राहु और शनि का युति और दृष्टि सम्बन्ध होने पर भी यह स्थिति बनती है. अशुभ भावेश (inauspicious lord of a house) शनि चन्द्र से युति या दृष्टि सम्बन्ध बनाता है अथवा चन्द्र शनि के नक्षत्र या उसकी राशि में हो तब व्यक्ति की कुण्डली पितृ दोष से पीड़ित होती है.

लग्न में गुरू नीच (combusted Jupiter) का हो और उस पर पापी ग्रहों का प्रभाव पड़ता हो अथवा त्रिक भाव (trine house) के स्वामियो से बृहस्पति दृष्ट या युति बनाता हो तब पितर व्यक्ति को पीड़ा देते हैं. नवम भाव में बृहस्पति और शुक्र की युति बनती हो एवं दशम भाव में चन्द्र पर शनि व केतु का प्रभाव हो तो पितृ दोष वाली स्थिति बनती है. शुक्र अगर राहु अथवा शनि और मंगल द्वारा पीड़ित होता है तब पितृ दोष का संकेत समझना चाहिए. अष्टम भाव में सूर्य व पंचम में शनि हो तथा पंचमेश राहु से युति कर रहा हो और लग्न पर पापी ग्रहों का प्रभाव हो तब पितृ दोष समझना चाहिए.

पंचम अथवा नवम भाव में पापी ग्रह हो या फिर पंचम भाव में सिंह राशि हो और सूर्य भी पापी ग्रहों से युत या दृष्ट हो तब पितृ दोष की पीड़ा होती है. कुण्डली में द्वितीय भाव, नवम भाव, द्वादश भाव और भावेश पर पापी ग्रहों का प्रभाव होता है या फिर भावेश अस्त या कमज़ोर होता है और उनपर केतु का प्रभाव होता है तब यह दोष बनता है. जिनकी कुण्डली में दशम भाव का स्वामी त्रिक भाव (trikha house)में होता है और बृहस्पति पापी ग्रहों के साथ स्थित होता है एवं लग्न और पंचम भाव पर पाप ग्रहों का प्रभाव होता है उन्हें भी पितृ दोष के कारण कष्ट भोगना होता है.

पितृ दोष उपचार (Remedies of Pitra Dosha)
जिनकी कुण्डली में पितृ दोष है उन्हें इसकी शांति और उपचार कराने से लाभ मिलता है. पितृ दोष शमन के लिए नियमित पितृ कर्म करना चाहिए अगर यह संभव नहीं हो तो पितृ पक्ष में श्राद्ध करना चाहिए. नियमित कौओं और कुत्तों का खाना देना चाहिए. पीपल में जल देना चाहिए. ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए. गौ सेवा और गोदान करना चाहिए. विष्णु भगवान की पूजा लाभकारी है.

Tags: , ,

258 Comments

  • At 2015.12.14 02:05, vaishali said:

    DOB 5/9/1985 Time 1.48 AM
    meri shadi jodne me aur job me bahut taklif ho rahi hai aur meri kundali me pitrudosh bataya hai please is sabaka upaay bataye

    • At 2015.12.20 02:16, santosh yashwant vibhute said:

      panditji mera nam hai santosh Dob 11/12/1982 mera bar bar accident hota hai ghar me mapitaji bimar rahte paisa tikta nahi hai mansik tras bhi hai

      • At 2015.12.20 02:19, santosh yashwant vibhute said:

        paisa tikta nahi hai mansik tras bhi hai

        panditji mera nam hai santosh Dob 11/12/1982 mera bar bar accident hota hai ghar me mapitaji bimar rahte 

        • At 2016.02.05 08:14, rakesh roy said:

          Panditji mera jannam 27/7/1990.time 4:30pm. Naukri kab hoga

          • At 2016.02.11 05:50, Hemant Gupta said:

            Kya Mata Pita Ke Expire Hone Par Pitra Dosh Khatam Ho Jata Hai Kya ??????

            • At 2016.02.14 23:32, Satyam Shriram Patil said:

              Panditji my husband job mein bahut taklif horahi.aur unhe jaha job chahiye udar sab kuch waiting bata rahe. Aur kahe rahe hain wait karo.

              • At 2016.02.27 00:08, Neeraj Pareek said:

                Panditji pranam
                hamare ghar main kalesh bat bat min chillana rupay paiso ki taklif nokari min taraki nahi man ashant khandan ki badnami ye sab chal raha hi is ka kya upay ho sakata hi

                • At 2016.03.04 13:44, Amit Solanki said:

                  Panditji namaste may amit solanki dob 17.08.1987 born.Delhi time 06.10 am jee nahi mujhe naukrai milte ha agar mil bhi jate ha tho jaha din tik nahi patha ghar may roge tanshan rahate ha mera career kasa rahega please Kuch bathey

                  (Required)
                  (Required, will not be published)