“Author Archive”

Lal Kitab Remedies for Sleeping House – लाल किताब सोया घर

Lal Kitab Remedies for Sleeping House – लाल किताब सोया घर

लाल किताब के अनुसार जिस घर में कोई ग्रह न हो तथा जिस घर पर किसी ग्रह की नज़र नहीं पड़ती हो उसे सोया हुआ घर माना जाता है. लाल किताब का मानना है जो घर सोया (Lal Kitab Sleeping House) होता है उस घ्रर से सम्बन्धित फल तब तक प्राप्त नहीं होता है जबतक […]

February 16 2013 | Posted in Lal kitab, Remedies | Read More »

मंगल केतु में समनता एवं विभेद (Similarities and differences between Mars and Ketu)

मंगल केतु में समनता एवं विभेद (Similarities and differences between Mars and Ketu)

मंगल को नवग्रहों में तीसरा स्थान प्राप्त है और केतु को नवम स्थान फिर भी ज्योतिष की पुस्तकों में कई स्थान पर लिखा मिलता है कि मंगल एवं केतु समान फल देने वाले ग्रह हैं (It is said in many jyotish books that Mars and Ketu give similar results). ज्योतिषशास्त्र में मंगल एवं केतु को […]

August 29 2010 | Posted in Feature, Vedic Astrology | Read More »

Bhadrapada Sankranti – भाद्रपद संक्रान्ति 2010

Bhadrapada Sankranti – भाद्रपद संक्रान्ति 2010

17 अगस्त 2010, मंगलवार, प्रात: 05:43, सूर्य मघा नक्षत्र, सिंह राशि में प्रवेश करेगा. इस संक्रान्ति में किये जाने वाले कार्यो का शुभ समय दोपहर 11:58 तक रहेगा. भाद्रपद संक्रान्ति को ध्वांक्षी संक्रान्ति के नाम से भी जाना जाता है. भाद्रपद संक्रान्ति व्यापारिक वर्ग के लिये विशेष रहेगी. इस संक्रान्ति में व्यापारिक वर्ग को लाभ […]

August 25 2010 | Posted in Muhurta | Read More »

विवाह के उपाय (Remedies and Upay to avoide late marriage)

विवाह के उपाय  (Remedies and Upay to avoide late marriage)

समय पर अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने की इच्छा के कारण माता-पिता व भावी वर-वधू भी चाहते है कि अनुकुल समय पर ही विवाह हो जायें. कुण्डली में विवाह विलम्ब से होने के योग होने पर विवाह की बात बार-बार प्रयास करने पर भी कहीं बनती नहीं है. इस प्रकार की स्थिति होने पर शीघ्र […]

July 7 2010 | Posted in Remedies | Read More »

प्रश्न कुण्डली से पूछिये प्रेम में सफलता मिलेगीं या नहीं (Will I have Love Marriage)

प्रश्न कुण्डली से पूछिये प्रेम में सफलता मिलेगीं या नहीं  (Will I have Love Marriage)

प्यार की मंजिल प्रेमी को पाना होता है. हर प्रेमी की चाहत होती है कि वह जिससे प्यार करता है वही उसका जीवनसाथी बने. लेकिन बहुत कम लोग होते हैं जिनका प्यार सफल हो पाता है. जिन लोगों के मन में यह भावना उठती हो कि उनका प्यार सफल होग या नहीं वह प्रश्न कुण्डली […]

July 1 2010 | Posted in Horary, Marriage Astrology | Read More »

समय और ग्रहों के अनुकूल रत्न धारण (Wearing Lucky Gemstone according to Planets and Dasha)

समय और ग्रहों के अनुकूल रत्न धारण (Wearing Lucky Gemstone according to Planets and Dasha)

रत्न में करिश्माई शक्तियां होती है.रत्न अगर सही समय में और ग्रहों की सही स्थिति को देखकर धारण किये जाएं तो इनका सकारात्मक प्रभाव प्राप्त होता है अन्यथा रत्न विपरीत प्रभाव भी देते हैं.ग्रहों के समान रत्नों में भी आपसी विद्वेष होता है अत: किसी रत्न के साथ दूसरे रत्नों को धारण कर सकते हैं यह भी जानना आवश्यक होता है.

June 9 2010 | Posted in Gemstone | Read More »

जैमिनी ज्योतिष से विवाह का विचार Determination of Marriage Prospects as per Jaimini Astrology

जैमिनी ज्योतिष से विवाह का विचार Determination of Marriage Prospects as per Jaimini Astrology

जैमिनी ज्योतिष (Jaimini Jyotish) में विवाह के विचार के लिए उपपद को एक महत्वपूर्ण कारक के रुप में देखा जाता है. उपपद और दाराकारक (Uppad and Dara Karak) से दूसरे एवं सातवें घर एवं उनके स्वामियों का भी विवाह के संदर्भ में विचार किया जाता है. इस विषय में कहा गया है कि अगर दूसरे घर में कोई ग्रह शुभ होकर स्थित हो व उसकी प्रधानता हो अथवा गुरु (Jupiter Karkamsa) और चन्द्रमा कारकांश (Moon Karkamsa) से सातवें घर में स्थित हो तो सुन्दर जीवनसाथी प्राप्त होता है. अगर दूसरे घर में कोई ग्रह अशुभ होकर स्थित हो तो एक से अधिक विवाह का संकेत मिलता मिलता है. कारकांश से सातवें घर में बुध होने पर जीवनसाथी पढ़ा लिखा होता है. अगर चन्द्रमा कारकांस से सप्तम में हो तो विदेश में शादी की पूरी संभावना बनती है.

June 8 2010 | Posted in Jaimini Jyotish, Marriage Astrology | Read More »

लाल किताब और गृहस्थ सुख (Lal kitab and the Married life)

लाल किताब और गृहस्थ सुख (Lal kitab and the Married life)

गृहस्थ जीवन के सुख के विषय में लाल किताब की अपनी मान्यताएं हैं. ज्योतिष की इस विधा में वैवाहिक जीवन के सुख के विषय में कई योगों का उल्लेख किया गया है. इनके अनुसार विवाह और वैवाहिक सुख के लिए शुक्र सबसे अधिक जिम्मेवार होता है. इस विषय में लाल किताब और भी बहुत कुछ […]

June 7 2010 | Posted in Lal kitab, Marriage Astrology | Read More »

Effects of Jupiter on Career and Business

Effects of Jupiter on Career and Business

गुरू को सत्वगुणी ग्रह माना जाता है. यह ज्ञान व भाग्य का प्राकृति स्वामी ग्रह माना जाता है. ज्योतिषशास्त्र में इसे धन का कारक भी कहा गया है. आजीविका का सम्बन्ध धन व आय से होता है. इस लिहाज से गुरू का सम्बन्ध आजीविका स्थान यानी दसवें घर से होने पर शुभ फलदायी माना जाता है.

June 4 2010 | Posted in Career & Money, Feature | Read More »

जन्म कुण्डली और प्रश्न कुण्डली ( Birth Horoscope vs. Prashna Kundali)

जन्म कुण्डली और प्रश्न कुण्डली ( Birth Horoscope vs. Prashna Kundali)

ज्योतिषशास्त्र की कई विधाएं हैं उन्हीं में से एक है जन्म पर आधारित ज्योतिष पद्धति (Birth Horoscope Astrology) और दूसरी है प्रश्न पर आधारित ज्योतिष पद्धति (Horary Astrology or Prashna Jyotish). प्रश्न ज्योतिष (Prashna Jyotish) जन्म पर आधारित ज्योतिष से कई मायने में भिन्न है. यही भिन्नता प्रश्न ज्योतिष की लोकप्रियता का कारण है. जन्म […]

June 3 2010 | Posted in Horary | Read More »