Home » Feature You are browsing entries filed in “Feature”

मंगल केतु में समनता एवं विभेद (Similarities and differences between Mars and Ketu)

मंगल केतु में समनता एवं विभेद (Similarities and differences between Mars and Ketu)

मंगल को नवग्रहों में तीसरा स्थान प्राप्त है और केतु को नवम स्थान फिर भी ज्योतिष की पुस्तकों में कई स्थान पर लिखा मिलता है कि मंगल एवं केतु समान फल देने वाले ग्रह हैं (It is said in many jyotish books that Mars and Ketu give similar results). ज्योतिषशास्त्र में मंगल एवं केतु को […]

August 29 2010 | Posted in Feature, Vedic Astrology | Read More »

Effects of Jupiter on Career and Business

Effects of Jupiter on Career and Business

गुरू को सत्वगुणी ग्रह माना जाता है. यह ज्ञान व भाग्य का प्राकृति स्वामी ग्रह माना जाता है. ज्योतिषशास्त्र में इसे धन का कारक भी कहा गया है. आजीविका का सम्बन्ध धन व आय से होता है. इस लिहाज से गुरू का सम्बन्ध आजीविका स्थान यानी दसवें घर से होने पर शुभ फलदायी माना जाता है.

June 4 2010 | Posted in Career & Money, Feature | Read More »

चौघडिया – Chogadhia The instant Muhurta

चौघडिया – Chogadhia The instant Muhurta

तेजी से भागते, बदलते समय ने ज्योतिष के मूहुर्त को भी बदल के रख दिया है. आज झटपट मूहुर्त का चलन है. मूहुर्तों की इसी श्रेणी में चौघडिया मूहुर्त (Chaughadia muhurtas) का नाम आता है. इस मूहुर्त को गुजरात व भारत के पश्चिमी क्षेत्रों में अधिक प्रयोग में लाया जाता है. इसका प्रयोग किसी शुभ काम को या किसी नई योजना को शुरु करने के लिये किया जाता है. जैसे: नये व्यापार या व्यवसाय को आरम्भ करने के लिये चौघडिया मूहुर्त का प्रयोग किया जा सकता है. हमारे यहां अनेक प्रकार के मूहुर्त निकाले जाते है. उद्देश्य के अनुसार उन्हे ज्ञात किया जाता है.

December 4 2009 | Posted in Feature, Muhurta | Read More »

राशियों पर शनि का प्रभाव (Saturn’s Influence in Different Zodiac Signs)

राशियों पर शनि का प्रभाव (Saturn’s Influence in Different Zodiac Signs)

जैसे कुछ ग्रहों के साथ शनि देव शुभ होते हैं और कुछ के साथ अशुभ फलदायी, उसी प्रकार कुछ 12 राशियों में से कुछ में शनि लाभदायक तो कुछ में हानिकारक होते हैं.आपकी कुण्डली में शनि किस राशि में हैं और यह आपको किस प्रकार से प्रभावित करेंगे आइये इसे देखें.

November 30 2009 | Posted in Feature, Saturn | Read More »

आपकी कुण्डली में धन योग (Laxmi yoga or Dhan yoga in your horoscope)

आपकी कुण्डली में धन योग (Laxmi yoga or Dhan yoga in your horoscope)

देवी लक्ष्मी की कृपा हम सभी प्राप्त करना चाहते हैं क्योंकि देवी लक्ष्मी ही सुख वैभव को देने वाली है.ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि में धन वैभव और सुख के लिए कुण्डली में मौजूद धनदायक योग (Lakshmi Yoga) काफी महत्वपूर्ण होते है.
देखिये कि आपकी कुण्डली में धनदायक योग (Dhan yoga in your horoscope) है अथवा नहीं.

November 30 2009 | Posted in Astrology Yoga, Feature | Read More »

मांगलिक दोष (Manglik Dosha – Kuja Dosha)

मांगलिक दोष (Manglik Dosha – Kuja Dosha)

मांगलिक दोष (Manglik Dosha) जिसे कुजा दोष (Kuja Dosha) भी कहते हैं विवाह के विषय में बहुत ही गंभीर और अमंगलकारी मानी जाती है. मांगलिक दोष से पीड़ित लड़का हो या लड़की दोनों की शादी को लेकर माता पिता की परेशानी विशेष रूप से बढ़ जाती है क्योंकि गृहस्थ जीवन के संदर्भ में मांगलिक दोष बहुत सी कष्टदायी और दुखदायी होती है.

November 28 2009 | Posted in Feature, Marriage Astrology | Read More »

विवाह लग्न और वैवाहिक जीवन (Marriage Ascendant & Married Life)

विवाह लग्न और वैवाहिक जीवन (Marriage Ascendant & Married Life)

विवाह के समय शुभ लग्न (benefic ascendant) उसी प्रकार महत्व रखता है, जैसा जन्म कुण्डली (birth chart) में लग्न स्थान (ascendant) में शुभ ग्रहों की स्थिति का होता है.विवाह के लिए लग्न निकालाते समय वर वधु की कुण्डलियों का परीक्षण (examination of birth charts)करके विवाह लग्न तय करना चाहिए.

November 28 2009 | Posted in Feature, Marriage Astrology | Read More »

मुहूर्त में लग्न और कार्य (Lagna According Work in Muhurta)

मुहूर्त में लग्न और कार्य (Lagna According Work in Muhurta)

मुहूर्त (muhurat) वैदिक ज्योतिष (Vedic astrology) का महत्वपूर्ण अंग है। यह समय विशेष में कार्य की शुभता और अशुभता की जानकारी देता है। अगर आप अपने कार्य को सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो मुहूर्त में लग्न का विचार करके कार्य शुरू करें। तुला लग्न (Libra ascendant)से मीन लग्न (Pisces ascendant)में कौन से कार्य किये जा सकते हैं

November 28 2009 | Posted in Feature, Muhurta | Read More »

लाल किताब से बनायें मंगल को शुभ (Lal Kitab Remedies for Mars)

लाल किताब से बनायें मंगल को शुभ (Lal Kitab Remedies for Mars)

मंगल को लाल किताब (Lal kitab) में शेर कहा गया है। यह अगर नेक हो तो वीरता, साहस और पराक्रम देता है। अगर मंदा हो तो भाई बंधुओं से परेशानी होती है। विवादो में उलझना पड़ता है। लाल किताब कहता है मंगल अगर मंदा (debilitated Mars) हो तो इसे नेक बनाने के लिए उपाय करना चाहिए। लाल किताब में प्रत्येक भाव के लिए उपचार बताए गए हैं।

November 28 2009 | Posted in Feature, Lal kitab | Read More »

प्रश्न कुण्डली एवं व्यवसाय और रोजगार (Horary Astrology & Your Business or Profession)

प्रश्न कुण्डली एवं व्यवसाय और रोजगार (Horary Astrology & Your Business or Profession)

व्यवसाय का सम्बन्ध जीविका से है. जीविका के लिए व्यक्ति व्यापार करता है या नौकरी. इसका स्तर छोटा भी हो सकता है और बड़ा भी. इसमें पदोन्नति भी होती है और स्थानांतरण भी. प्रश्न कुण्डली रोजगार और व्यवसाय से सम्बन्धित सभी पहलूओं का उत्तर देने में सक्षम है.

November 28 2009 | Posted in Career & Money, Feature, Horary | Read More »